मैं हसीना गज़ब की

लेखिका: शहनाज़ खान


भाग ९


हम स्केड्यूल के हिसाब से फ्राँस के लिये निकल पड़े। पैरिस में हमारी तरह तकरीबन सौ कंपनी के रेप्रिसेंटेटिव आये थे। हमें एक शानदार रिज़ोर्ट-होटल में ठहराया गया। उस दिन शाम को कोई प्रोग्राम नहीं था तो हमें साईट-सींग के लिये ले जाया गया। वहाँ आईफल टॉवर के नीचे खड़े होकर हम दोनों कईं फोटो खिंचवाये। फोटोग्राफर्स ने हम दोनों को हसबैंड-वाईफ समझा। वो हम दोनों को कुछ इंटीमेट फोटो के लिये उकसाने लगे। ससुर जी ने मुझे देखा और मेरी राय माँगी। मैंने कुछ कहे बिना उनके सीने से लिपट कर अपनी रज़ामंदी जाता दी। हम दोनों ने एक दूसरे को चूमते हुए और लिपटे हुए कईं फोटो खिंचवाये। मैंने उनकी गोद में बैठ कर भी कईं फोटो खिंचवाये। ये सब फोटो उन्होंने छिपा कर रखने की मुझे तसल्ली दी। ये रिश्ता किसी भी तरह से इंडियन कलचर में एक्सेप्टेबल नहीं था।

अगले दिन सुबह से बहुत बिज़ी प्रोग्राम था। सुबह से ही मैं सैमिनार में बिज़ी रही। ताहिर अज़ीज़ खान जी, यानी मेरे ससुर जी, एक ब्लैक सूट जिस पर गोल्डन लाईनिंग थी, उसमें बहुत जच रहे थे। उन्हें देख कर किसी को अंदाज़ लगाना मुश्किल हो जाये कि उनके बेटों की निकाह भी हो चुके होंगे। वो खुद ४० साल से ज्यादा के नहीं लगते थे। जैसा कि मैंने पहले लिखा था कि निकाह से पहले से ही मैं उन पर मर मिटी थी। अगर मेरा जावेद से निकाह नहीं हुआ होता तो मैं तो उनकी मिस्ट्रैस बनकर रहने को भी तैयार थी। जावेद से मुलाकत कुछ और दिनों के बाद भी होती तो मैं अपनी वर्जिनिटी ताहिर अज़ीज़ खान जी पर निसार कर चुकी होती।

खैर वापस घटनाओं पर लौटा जाये। सुबह, ड्रेस कोड के अनुसार मैंने स्कर्ट-ब्लाऊज़ और साढ़े चार इंच ऊँची हील के सैंडल पहन रखे थे। १२ बजे के आस पास दो घांटे का ब्रेक मिलता था, जिसमें स्विमिंग और लंच करते थे। सब कुछ स्ट्रिक्ट टाईम टेबल के अनुसार किया जा रहा था। सुबह उठने से लेकर कब-कब क्या-क्या करना है, सब कुछ पहले से ही डिसायडिड था।

हमें अपने अपने कमरे में जाकर तैयार होकर स्विमिंग पूल पर मिलने के लिये कहा गया। मैंने एक छोटी सी टू पीस बिकिनी पहनी हुई थी। बिकिनी काफी छोटी सी थी। इसलिये मैंने उसके ऊपर एक शर्ट पहन ली थी। फिर उस बिकनी के साथ के हाई-हील सैंडल पहन कर मैं कमरे से बाहर निकल कर बगल वाले कमरे में, जिसमें ससुर जी रह रहे थे, उसमें चली गयी। ससुर जी कमरे में नहीं थे। मैंने इधर उधर नज़र दौड़ायी। बाथरूम से पानी बहने की आवाज सुनकर उस तरफ़ गयी तो देखा कि बाथरूम का दरवाजा आधा खुला हुआ था। सामने ताहिर अज़ीज़ खान जी पेशाब कर रहे थे। उन्होंने हाथ में अपना काला लंड संभाल रखा था। लंड आधा उत्तेजित हालत में था इसलिये काफी बड़ा दिख रहा था। मैं झट थोड़ा ओट में हो गयी जिससे कि उनकी नज़र अचानक मुझ पर नहीं पड़े और मैं वहाँ से उनको पेशाब करते हुए देखती रही। जैसे ही उन्होंने पेशाब ख़त्म करके अपने लंड को अंदर किया तो मैंने एक बनावटी खाँसी देते हुए उन्हें अपने आने की इत्तला दी। वो कपड़े ठीक करके बाहर निकले। ताहिर अज़ीज़ खान जी ने नंगे जिस्म पर एक छोटा सा वी-शेप का स्विमिंग कास्ट्यूम पहन रखा था जिसमें से उनके लंड का उभार साफ़-साफ़ दिख रहा था। उन्होंने अपने लंड को ऊपर की ओर करके सेट कर रखा था।

उन्होंने मुझे बाँहों से पकड़ कर अपनी ओर खींचा तो मैं उनके नंगे जिस्म से लग गयी। उसी हालत में उन्होंने मेरे कंधे पर अपनी बाँह रख कर मुझे अपने से चिपका लिया। हम दोनों एक दूसरे के गले में हाथ डाले किसी नये शादीशुदा जोड़े की तरह स्विमिंग पूल तक पहुँचे।

यहाँ पर कोई शरम जैसी बात नहीं थी। बाकी लेडी सेक्रेटरिज़ मुझसे भी छोटे कपड़ों में थीं। उनके सामने तो मैं काफी डिसेंट लग रही थी। मैंने देखा कि सभी लड़कियाँ स्विमिंग करते वक्त भी अपने हाई-हील वाले सैंडल पहने हुए थीं। सारे मर्द छोटे स्विमिंग कास्ट्यूम पहने हुए नंगे जिस्म थे। उनके मांसल सीने देख कर किसी भी औरत का मन ललचा जाये। ताहिर अज़ीज़ खान जी इस उम्र में भी अपनी हैल्थ का बहुत खयाल रखते थे। रोज सुबह जिम जाने के कारण उनका जिस्म काफी कसा हुआ था। उनके सीने से लग कर मैं बहुत चहक रही थी। यहाँ देखने या टोकने वाला कोई नहीं था।

हम काफी देर तक स्विमिंग करते रहे। वहाँ हम कुछ जोड़े मिलकर एक बॉल से खेल रहे थे। वहीं पर जर्मनी से आये हुए हैमिल्टन और उसकी सैक्सी सेक्रेटरी साशा से मुलाकात हुई। हम काफी देर तक उनके साथ खेलते रहे। साशा ने एक बहुत ही छोटी सी ब्रा और पैंटी पहन रखी थी। वो उन कपड़ों और मेलखाते सैंडलों में बहुत ही सैक्सी लग रही थी। दूध के जैसी रंगत और सुनहरे बाल उसे किसी परी जैसा लुक दे रहे थे। उसका चेहरा बहुत ही खूबसूरत था और उसके बूब्स इतने सख्त थे कि लग रहा था उसने अपने सीने पर दो तरबूज बाँध रखे हों।

हैमिल्टन का कद काफी लंबा था, करीब छ: फुट और दो इंच। उसके पूरे जिस्म पर सुनहरे घने रोंये थे। सिर पर भी सुनहरे बाल थे। हल्की सी बेतरतीब बढ़ी दाढ़ी उसकी शख्सियत को और खूबसूरत बना रही थी। दोनों के बीच काफी नज़दीकी और बे-तकल्लुफी थी। साशा तो बे-झिझक उसको किस करती, उसके सीने पर अपने मम्मों को रगड़ती और कईं बार तो उसने हैमिल्टन के लंड को भी सब के सामने मसल दिया था। हैमिल्टन भी बीच-बीच में उसकी ब्रा के अंदर हाथ डाल कर साशा के मम्मों को मसल देता था। पैरिस में खुलेआम सैक्स का बोलबाला था। कोई अगर पब्लिक प्लेस में भी अपने साथी को नंगा कर देता और चुदाई करने लगता तो भी किसी की नज़र तक नहीं अटकती।

वहाँ स्विमिंग पूल पर ही कॉकटेल सर्व किया जा रहा था। मैंने एक ग्लास लिया और पास खड़े ताहिर अज़ीज़ खान जी के होंठों से लगा दिया। ताहिर अज़ीज़ खान जी ने मेरी कमर को थाम कर मुझे अपने सीने से सटा लिया और मेरे हाथों से ग्लास में से कॉकटेल सिप करने लगे। उन्होंने एक सिप करने के बाद मेरे होंठों से ग्लास को सटा दिया। मैंने कभी उनके सामने शराब नहीं पी थी मगर उनके रिक्वेस्ट करने पर एक सिप उसमें से ली। शराब पीने की तो मैं निहायत शौकीन थी| अब उनके सामने पीने की शरम भी खुल गयी तो मैंने भी अपने लिये एक ग्लास ले लिया और फिर आकर उनसे चिपक गयी। मेरा नंगा जिस्म उनके जिस्म से रगड़ खा रहा था। दोनों के नंगे जिस्मों के एक दूसरे से रगड़ खाने की वजह से एक सिहरन सी पूरे जिस्म में फैली हुयी थी।

जब हमारे ग्लास खत्म हुए तो मैंने ग्लास पूल के पास जमीन पर रख दिये और उनकी बाँहों से निकल गयी। वो दूसरा ग्लास लेकर किसी से डिस्कशन करने लगे तो मैंने भी अपने लिये एक ग्लास और ले लिया। शराब तो वहाँ पानी की तरह पी जा रही थी तो मैं क्यों खुद को रोकती। नयी-नयी कॉकटेल टेस्ट करने का मौका था। तीसरा ड्रिंक पीने का बाद मुझे सुरूर सा छाने लगा तो मैं वापस स्विमिंग पूल में तैरने लगी। मुझे देख कर हैमिल्टन भी मेरे साथ तैरने लगा। जब मैं कुछ देर बाद दूसरे कोने पर पहुँची तो हैमिल्टन ने मेरे पास आकर मुझे खींच कर अपने सीने से लगा लिया।

आय एनवी योर एंपलायर। व्हॉट ए सैक्सी डैमसल ही हैज़ फ़ोर ए सेक्रेटरी! उसने कहा और मुझे खींच कर अपने जिस्म से कस कर सटा लिया। उसने अपने तपते होंठ मेरे होंठों पर रख दिये और अपनी जीभ को मेरे मुँह में डालने के लिये जोर लगाने लगा। मैं पहले-पहले तो अपने ऊपर हुए इस हमले से घबरा गयी। ममममम आवाज के साथ मैंने उसे ठेलने की कोशिश की मगर एक तो मैं थोड़े सुरूर में थी और वहाँ का माहौल ही कुछ ऐसा था कि मेरा एतराज़ कमज़ोर और लम्हाती ही रहा। कुछ ही देर में मैंने अपने होंठों के बीच उसकी जीभ को दाखिल होने के लिये जगह दे दी। उसकी जीभ मेरे मुँह के एक-एक कोने में घूमने लगी। मेरी जीभ के साथ वो जैसे बैले डाँस कर रहा था।

ये देख कर साशा भी ताहिर अज़ीज़ खान जी के पास सरक गयी और उनसे लिपट कर उन्हें चूमने लगी। मैंने उनकी ओर देखा तो साशा ने अपने अंगूठे को हिला कर मुझे आगे बढ़ने का इशारा किया। हैमिल्टन के हाथों ने मेरे चूतड़ों को कस कर जकड़ रखा था। उसने मेरे नितंबों को कस कर अपने लंड पर दाब रखा था। उसके खड़े लंड का एहसास मुझे मिल रहा था।

डज़ ही फ़क यू रेग्यूलरली? हैमिल्टन ने मुझ से पूछा।

शशऽऽ! ही इज़ नॉट ओनली मॉय एंपलायर.... ही इज़ मॉय फ़ादर इन-ला ठू सो यू सी देयर इज़ अ डिस्टैंस टू बी मैनटेंड बिटवीन अस।

ओह फ़क ऑफ! वो बोला, इट्स शियर बुलशिट!

बिलीव मी.. इन इंडिया इनसेस्ट रिलेशनशिप आर इल-लिगल... दे आर बैंड बाय द सोसायटी!

इट इज़ नॉट इंडिया बेबी... यू आर इन पैरिस..... कैपिटल ऑफ फ्राँस। हेयर एवरी थिंग इज़ लिगल, उसने मेरे एक मम्मे को मसलते हुए कहा, हैव यू नेवर बीन टू एनी न्यूड बीचेज़ ऑफ़ फ्राँस। देयर यू विल फाईंड द होल फैमिली एंजॉयिंग फुल न्यूडिटी। गो ऑन.... इंजॉय बेबी फ़क हिज़ ब्रेंस ऑऊट! मैं खिलखिला कर वहाँ से हट गयी। कुछ देर बाद हम वापस कपड़े बदल कर सैमिनार में पहुँच गये। फिर शुरू हुई कुछ घंटों की बकबक। मैं अपने ससुर जी से सट कर बैठी थी। उनके जिस्म से उठ रही कोलोन की खुशबू मुझे मदहोश कर दे रही थी और शराब का हल्का-फुल्का सुरूर भी बरकरार था। पहले तो उन्होंने कुछ नोटिस नहीं किया लेकिन बाद में जब उनको मेरे दिल का हाल पता चला तो वो मेरे नितंबों और मेरी जाँघों को सहलाने लगे। मैंने पहले एक दो बार उनको रोकने की नाकाम कोशिश की लेकिन उनके नहीं मानने पर मैंने कोशिश छोड़ दी।

शाम को ड्रेस कोड के हिसाब से कमरे में आकर मैंने अपने सारे कपड़े उतार दिये और फिर बिना किसी अंडर गार्मेंट्स के एक माइक्रो स्कर्ट और टाईट टॉप पहन ली। फिर बहुत ही पतली और ऊँची हील के स्ट्रैपी सैंडल पहन कर मैंने आईने में अपने को देखा। मेरे निप्पल टॉप के ऊपर से उभरे हुए दिख रहे थे। मैंने पहले घूम कर और फिर झुक कर अपने को देखा और फिर आईने के पास जा कर अपने को अच्छे से निहारा। मेरे सुडौल जिस्म का एक-एक कटाव, एक-एक उभार साफ़ दिख रहा था। मैं पीछे घूम कर आईने के आगे झुकी तो मैंने देखा कि झुकने के कारण स्कर्ट उठ जाती थी और मेरी बगैर पैंटी की नंगी चूत और गाँड साफ़ दिख रही थी। मैंने ड्रेस को खींच कर नीचे करने की कोशिश की लेकिन वो बिल्कुल भी नीचे नहीं सरकी। मैं उसी ड्रेस में बाहर आयी और ताहिर अज़ीज़ खान जी के कमरे में घुस गयी। मेरे ससुर जी उस वक्त तैयार हो रहे थे। उन्होंने दोबारा शेविंग की थी और एक टी-शर्ट और जींस में इतने हंडसम लग रहे थे कि क्या बयान करूँ।

हाय हैंडसम! आज लगता है साशा की शामत आयी है। बहुत चिपक रही थी आपसे! मैंने उन्हें छेड़ते हुए कहा।

साशा? अरे जिसकी बगल में तुम जैसी हसीना हो तो उसे सौ साशा भी नहीं बहला सकती, कह कर उन्होंने मेरी तरफ़ देखा। मुझे ऊपर से नीचे तक कुछ देर तक निहारते ही रह गये। उनके होंठों से एक सीटी जैसी आवाज निकली, जैसी आवाज आवारा टाईप के मजनू निकाला करते हैं।

मममम.. आज तो पैरिस जलकर राख हो जायेगा! उन्होंने मुस्कुराते हुए मेरी तारीफ़ की।

आप भी बस मेरी खिंचायी करते रहते हो! मैं शरम से लाल हो गयी थी। उन्होंने अपने हाथ सामने की ओर फैला दिये तो मैं मुस्कुराते हुए उनके पास आ खड़ी हुई।

हम दोनों एक साथ हाल में एंटर हुये। वहाँ एक तरफ़ डाँस के लिये जगह छोड़ी हुई थी। बाकी जगह में टेबल कुर्सियाँ बिछी थीं। मैं सकुचाती हुई अपने ससुर जी की बाँहों में समाये हुए कमरे में घुसी। वहाँ का माहौल बहुत ही इरोटिक था। मद्धम रोशनी में चारों तरफ़ जोड़े बैठे हुए थे। सब अपने पार्टनर्स के साथ थे। सारे जोड़े सैक्स हरकतों में बिज़ी हो रहे थे। कोई किसिंग में बिज़ी था तो कोई अपने पार्टनर को सहला रहा था। किसी के हाथ पार्टनर्स के कपड़ों के नीचे घूम रहे थे तो कुछ अपने पार्टनर्स को नंगा भी कर चुके थे।

हम टेबल ढूँढते हुए आगे बढ़े तो एक टेबल से हैमिल्टन ने हाथ हिला कर हमें बुलाया। हम वहाँ पहुँचे। साशा हैमिल्टन की गोद में बैठी हुई थी। हैमिल्टन का एक हाथ उसके टॉप के नीचे घुसा हुआ उसकी छातियों को सहला रहा था। साशा के मम्मों के उभार बता रहे थे कि उन पर हैमिल्टन के हाथ फिर रहे थे। हमें देखते ही साशा हैमिल्टन की गोद से उठ गयी। हैमिल्टन ने मुझे अपनी गोद में खींच लिया और साशा ससुर जी की गोद में जा बैठी। हैमिल्टन ने मेरे बूब्स पर टॉप के ऊपर से हाथ फ़िराया।

आई अगेन टेल यू स्वीटहार्ट यू आर ठू सैक्सी टू ड्राईव ऐनीवन क्रेज़ी, उसने कहा और मेरे हाथ में कॉकटेल का ग्लास पकड़ा कर टॉप के बाहर से मेरे मम्मों को मसलने लगा। मैंने ताहिर अज़ीज़ खान जी की तरफ़ देखा। वो मुझे हैमिल्टन से बूब्स मसलवाते हुए बड़ी गहरी नजरों से देख रहे थे। मैंने शरमा कर दूसरी ओर नजरें फ़ेर लीं। मैं अपना ड्रिंक पीते हुए बीच में बने डायस पर थिरक रहे जोड़ों को देखने लगी।

हम थोड़ी देर ऐसे ही बैठे अपने ड्रिंक सिप करते रहे। मेरा दूसरा ड्रिंक ख़त्म हुआ तो हैमिल्टन ने मुझे खींच कर उठाते हुए कहा, कम ऑन स्वीटहार्ट! लेट्स डाँस! मैंने ताहिर अज़ीज़ खान जी की तरफ़ एक नज़र देखा। उन्होंने सिर हिला कर अपनी रज़ामंदी दे दी। हम बीच सर्कल में डाँस करने लगे। डाँस फ़्लोर पर बहुत ही कम रोशनी थी। इसलिये डाँस तो कम चल रहा था और एक दूसरे को मसलना ज्यादा चल रहा था। कुछ पार्टनर्स बिल्कुल नंगे होकर डाँस कर रहे थे। सब शराब के नशे में चूर थे। मुझ पर भी दो ड्रिंक्स पीने के बाद खुमारी सवार थी।

हैमिल्टन भी मुझे अपने सीने में दबा कर मेरे टॉप के अंदर हाथ डाल कर मेरे बूब्स को जोर से मसलने लगा। फिर मेरे टॉप को ऊँचा करके मेरे बूब्स को नंगा कर दिया और अपने मुँह में मेरा एक निप्पल भर कर चूसने लगा। मैंने अपने आसपास नजरें दौड़ायीं। औरों की हालत तो मेरे से भी बुरी थी। ज्यादातर लड़कियाँ या तो टॉपलेस हो चुकी थीं या पूरी तरह ही नंगी हो गयी थीं। हमारे पास एक जोड़ा तो म्यूज़िक पर ही खड़े खड़े कमर हिला-हिला कर चुदाई में लीन था।

हैमिल्टन का दूसरा हाथ मेरी स्कर्ट के अंदर घुस कर मेरी टाँगों के जोड़ पर फिर रहा था। मैं अपनी बिना बालों वाली चिकनी चूत पर उसके हाथों का दबाव महसूस कर रही थी। मैंने अपनी टेबल की तरफ़ अपनी नजरें दौड़ायीं तो पाया कि साशा घुटनों के बल जमीन पर बैठ कर ताहिर अज़ीज़ खान जी का लंड अपने मुँह में भर कर चूस रही है। मैं भी अपने हाथ हैमिल्टन के लंड पर रख कर उसकी जींस के ऊपर से ही उसके लंड को सहलाने लगी। हैमिल्टन ने खुश हो कर अपनी जींस की ज़िप नीचे कर दी। मैंने अपना हाथ उसकी पैंट के अंदर डाल कर उसके लंड को पकड़ कर बाहर निकाला। मैं उसके लंड को अपने हाथों से सहलाने लगी। मेरी नजरें बराबर अपने ससुर जी पर टिकी हुई थी।

लेट दैम इंजॉय एंड लेट अस डू द सेम, हैमिल्टन ने मेरी नजरों को भाँपते हुए कहा। कम-ऑन लेट्स गो टू सम केबिन फ़ोर अ क्विकी!

मैं उसका इरादा समझ नहीं पायी और उसकी ओर देखा तो उसने बात क्लियर की, देयर आर सम केबिन्स मेड फ़ोर कपल्स हू आर शाय टू फ़क इन द पब्लिक। कम ऑन लेट्स गो देयर फ़ोर अ फ़क!

नो.... नो! आय वोंट डू दैट, मैंने एतराज करते हुए कहा, मॉय फादर-इन-ला मे टेक इट अदरवाईज़!

हा! यू इंडियंस आर सो शाय! आय लव इंडियंस। लुक सैक्सी.... योर फ़ादर-इन-ला इज़ बिज़ी फ़किंग मॉय साशा! उसने हमारी टेबल की तरफ़ इशारा किया। मैंने देखा साशा ताहिर अज़ीज़ खान जी की गोद में सिर्फ सैंडल पहने बिकुल नंगी बैठी थी। उसका चेहरा सामने की ओर था और वो टेबल पर अपने दोनों हाथों का सहारा लेकर अपनी कमर को उनके लंड पर ऊपर नीचे कर रही थी। ससुर जी के दोनों हाथ साशा के मम्मों को मसलने में मसरूफ थे।

हैमिल्टन मुझे खींचता हुआ दीवार के पास बने कुछ केबिनों में से एक में ले गया। मैं झिझक रही थी उसको इतना लिफ्ट देते हुए लेकिन उसने जबरदस्ती मुझे केबिन के अंदर खींच ही लिया। मुझे वहाँ रखी टेबल के पास खड़ी करके उसने मेरे हाथ टेबल पर टिका दिये। मेरे जिस्म से मेरे टॉप को नोच कर फ़ेंक दिया और मेरे बूब्स को पीछे की तरफ़ से पकड़ कर मुझे टेबल के ऊपर झुका दिया और मेरे स्कर्ट को खींच कर उतार दिया। मेरे कपड़े उसने उतार कर एक तरफ़ फ़ेंक दिये। अब मैं सिर्फ हाई-हील के सैंडल पहने बिल्कुल नंगी खड़ी थी। फिर वो भी जल्दी-जल्दी अपने सारे कपड़े उतार कर बिल्कुल नंगा हो गया। लाईट ऑन करके हमने एक दूसरे के नंगे जिस्म को निहारा। उसका लंड हल्का गुलाबी रंग का था जो कि उसके एक दम गोरे रंग से मेल खा रहा था। उसने दोबारा मुझे टेबल पर झुका दिया और पीछे से अपना लंड मेरी चूत पर लगा दिया। फिर मेरे बूब्स को जोर से पकड़ कर एक जोर का धक्का मारा और मेरे मुँह से आआआऽऽहहहऽऽऽ की आवाज के साथ उसका लंड मेरी चूत में घुस गया। उसका लंड कोई गैर मामूली बड़ा नहीं था। इसलिये उसे अपनी चूत में लेने में किसी तरह की कोई खास दिक्कत नहीं आयी।

वो पीछे से मुझे जोर-जोर से धक्के मारने लगा। कुछ देर तक इसी तरह मुझे चोदने के बाद वो सोफ़े पर बैठ गया और अपने लंड पर मुझ बिठा लिया और मेरी दोनों बगलों में अपने हाथ डाल कर मेरे हल्के जिस्म को अपने हाथों से अपने लंड पर ऊपर नीचे करने लगा। कुछ देर बाद मुझे खड़ा करके खुद भी खड़ा हो गया। फिर मेरी बाँहों को अपनी गर्दन के चारों ओर डाल कर मुझे जमीन से ऊपर उठा लिया। उसका लंड मेरी चूत में घुस गया। मैं खुद को गिरने से बचाने के लिये उसकी कमर के चारों ओर अपने पैरों का घेरा डाल दिया। इस तरह से अपने लंड पर मुझे बिठा कर वो अपने लंड को मेरी चूत में आगे पीछे करने लगा। मुझे अपने लंड पर बिठाये हुए इसी हालत में वो मुझे लेकर सोफ़े तक पहुँचा। फिर सोफ़े पर खुद लेट कर मुझे अपने लंड पर वापस बिठा लिया। मैं उसके लंड पर कूदने लगी। उसकी ठुकायी से साफ़ लग रहा था कि ये जर्मन चुदाई के मामले में तो अच्छे अच्छों को ट्रेनिंग दे सकता है। मुझे करीब-करीब एक घंटे तक उसने अलग अलग पोज़ में चोदा। मेरे मुँह में, मेरी गाँड में, मेरी चूत में, हर जगह उसने अपने लंड को रगड़ा। जब उसके लंड से फुहार छूटने को हुई तो उसने अपने लंड को मेरी चूत से निकाल कर मेरे मुँह में डाल दिया और ढेर सारा वीर्य मेरे मुँह में भर दिया। मैं उसके छूटने तक तीन बार झड़ चुकी थी। फिर मैं उसके वीर्य को छोटे-छोटे घूँटों में पी गयी।

फिर मैं लहरा कर नीचे जमीन पर गिर गयी और वहीं पड़े-पड़े लंबी-लंबी सांसें लेने लगी। हैमिल्टन के लंड से अभी भी हल्की हल्की वीर्य की पिचकारी निकल रही थी, जिसे वो मेरे मम्मों पर गिरा रहा था। मम्मों पर छलके हुए वीर्य को उसने मेरे टॉप से साफ़ किया। टॉप से उसने अपने वीर्य को कुछ इस तरह पोंछा कि जब मैंने दोबारा टॉप पहनी तो मेरे दोनों निप्पल के ऊपर दो बड़े-बड़े गीले धब्बे थे। टॉप मेरे दोनों निप्पल पर चिपक गयी थी और निप्पल बाहर से दिखने लगे थे।

कुछ देर बाद हम वहीं रेस्ट करके अपने कपड़े पहन कर बाहर आ गये। बाहर अपनी टेबल पर आकर देखा कि टेबल खाली थी। मैंने बैठते हुए इधर उधर नज़र दौड़ायी लेकिन साशा और ससुर जी कहीं नहीं दिखे। हैमिल्टन ने अपनी कुर्सी पर बैठ कर मुझे अपनी गोद में खींच लिया। मैंने उसकी गोद में बैठ कर उसके गले में अपनी बाँहों का हार डाल दिया और हम दोनों एक दूसरे को चूमने लगे। आस पास सारे जोड़े सैक्स में ही लीन दिखे। किसी को किसी की फ़िक्र नहीं थी। कुछ तो वहीं पूरे नंगे हो कर चुदाई में लगे हुए थे। वेस्टर्न कल्चर में तो ये एक मामुली सी बात थी। तभी वेटर डिनर और वाईन सर्व कर गया। हैमिल्टन की गोद में बैठे-बैठे हमने डिनर लिया। हम एक दूसरे को खिलाते रहे। हैमिल्टन का लंड वापस मेरे नितंबों के नीचे खड़ा हो रहा था। उसने मुझे उठाया और मेरी चूत पर लंड को सेट करके वापस अपनी गोद में बिठा लिया। इस बार हम दोनों ने किसी तरह की उछल कूद नहीं की। मैं उसके लंड को अपनी चूत में लेकर डिनर करने में व्यस्त हो गयी। वो भी डिनर ले रहा था।

थोड़ी देर बाद ताहिर अज़ीज़ खान जी साशा को बाँहों में लिये इधर आते हुए दिखे। मैं झट से हैमिल्टन कि गोद से उतर कर अपनी सीट पर बैठ गयी और वाईन सिप करने लगी। आखिर हम इंडियंस कितने भी एडवांस्ड हो जायें, कुछ तो शरम बची ही रहती है। हैमिल्टन ने अपने लंड को अंदर करने की कोई कोशिश नहीं की।

साशा और ससुर जी आकर अपनी अपनी सीट पर बैठ गये। हम दोनों एक दूसरे से नजरें नहीं मिला पा रहे थे। हैमिल्टन और साशा चुहल बाजी करते रहे। हैमिल्टन ने खींच कर साशा को अपने लंड पर बिठा लिया। साशा ने भी एक झटके से अपनी टॉप उतार दी और हैमिल्टन के लंड की सवारी करने लगी।

लेकिन हम दोनों चुपचाप अपने अपने ख्यालों में खोये खाना खाते रहे और बीच-बीच में चोर निगाहों से अपने सामने चल रही ब्लू फ़िल्म का भी मज़ा लेते रहे। सामने उन दोनों की चुदाई देखते हुए अक्सर हम दोनों की निगाहें टकरा जाती तो मैं शरमा कर और ससुर जी मुस्कुरा कर अपनी निगाहें हटा लेते।

खाना खाकर हम दोनों ने उन दोनों से विदा ली। मैं अपने ससुर जी की बाँहों में अपनी बांहें डाल कर अपने रूम की तरफ़ बढ़ी। मुझे काफी सुरूर महसूस हो रहा था क्योंकि दोपहर से धीरे-धीरे करके कम से कम चार-पाँच कॉकटेल और तीन वाईन के ग्लास पी चुकी थी। ऊपर से महफिल का माहौल भी इतना उत्तेजक था।

मैं साशा के साथ किसी नये प्रॉजेक्ट के बारे में डिसकस करने पास के एक केबिन में गया था। तुमको बता नहीं पाया क्योंकि तुम कहीं मिली नहीं। पता नहीं भीड़ में तुम कहाँ हैमिल्टन के साथ डाँस कर रही थीं।

उनके मुँह से ये बात सुनकर मुझे बहुत राहत मिली कि उनको नहीं पता चल पाया कि उसी दौरान मैं भी पास के ही किसी केबिन में हैमिल्टन के साथ चुदाई में लीन थी। हम दोनों के अलग-अलग रूम थे। मैंने अपने कमरे के सामने पहुँच कर उन्हें गुड नाईट कहा और कमरे की तरफ़ बढ़ने लगी।

कहाँ जा रही हो। आज मेरे कमरे में ही सो जाओ ना, ससुर जी ने कहा। उनका इरादा साफ़ था। आज बर्फ़ पिघल रही थी लेकिन मुझे भी अपना डेस्प्रेशन नहीं दिखाना था। इसलिये मैंने उनकी तरफ़ देख कर अपनी नजरें झुका लीं और कदम अपने कमरे की तरफ़ बढ़ाये।

अच्छा ठीक है तुम अपने कमरे में चलो। मैं अभी आता हूँ..... कपड़े चेंज मत करना! उन्होंने मुझसे कहा।

क्यों क्या हुआ? मैंने पूछा।

नहीं कुछ नहीं! तुम इन कपड़ों में बहुत खूबसूरत लग रही हो.... तुम्हें इन कपड़ों में कुछ देर तक देखना चाहता हूँ!

क्यों इतनी देर देख कर भी मन नहीं भरा क्या? मैंने उनकी तरफ़ मुस्कुरा कर देखा। अब्बू जान... अपने मन को कंट्रोल में रखिये। अब मैं आपके बेटे की बीवी हूँ, कहते हुए मैं हंसती हुई कमरे में चली गयी। अंदर आकर मैंने अपने टॉप और स्कर्ट को उतार दिया और बाथरूम में जा कर चेहरा धोया। जिस्म पर सिर्फ तौलिया लपेटे बाथरूम से बाहर आकर मैंने ड्रैसिंग टेबल के सामने खड़े होकर अपने टॉवल को हटा दिया। मेरा नंगा जिस्म रोशनी में चमक उठा। मैं सिर्फ हाई-हील के सैंडल पहने हुए खड़ी हुई अपने नंगे जिस्म को निहार रही थी। निकाह के बाद कितने लोगों से मैं चुदाई कर चुकी थी। इस जिस्म में कुछ ऐसी ही कशिश थी कि हर कोई खिंचा चला आता था। मैंने उसी हालत में खड़े होकर डियोड्रेंट लगाया और हल्का मेक-अप किया। अपने बालों में कंघी कर ही रही थी कि डोर बेल बजी।

कौन है?

मैं हूँ... दरवाजा खोलो, बाहर से ससुर जी की आवाज आयी।

मैंने झट अपने शाम को पहने हुए कपड़ों को वापस पहना और दरवाजे को खोल दिया। उन्होंने मुझसे अलग होने से पहले उन्हीं कपड़ों में रहने को कहा था। अब दोनों निप्पल के ऊपर टॉप पर लगा धब्बा सूख गया था लेकिन धब्बा साफ़ दिख रहा था कि वहाँ कुछ लगाया गया था। ताहिर अज़ीज़ खान जी अंदर आये। उन्होंने शायद अपने कमरे में जाकर भी एक दो पेग लगाये थे। उनके चाल में हल्की लड़खड़ाहट थी। कमरे में आकर वो बिस्तर पर बैठ गये।

आओ मेरे पास, उन्होंने मुझे बुलाया। मैं धीरे-धीरे हाई-हील सैंडलों में मटकते हुए चल के उनके पास पहुँची। उन्होंने अपनी जेब में हाथ डाल कर एक खूबसूरत सा लॉकेट निकाल कर मुझे पहना दिया।

वॉव! कितना खूबसूरत है! मैंने खुश होकर कहा किसके लिये है ये?

तुम्हें पसंद है? मैंने हामी में सिर हिलाया। ये इस खूबसूरत गले के लिये ही है! कहकर उन्होंने मेरे गले को चूम लिया।

उम्म बहुत सुंदर है ये! मैंने लॉकेट को अपने हाथों से उठाकर निहारते हुए कहा।

मुझे भी तो पता चले कि तुम कितनी खुश हो। खुश हो भी या मैं झट से उनकी गोद में बैठ गयी और उनके गले में अपनी बाँहों का हार डाल कर उनके होंठों पर अपने होंठ सटा दिये। मैंने उनको एक डीप किस दिया। जब हम दोनों अलग हुए तो उन्होंने मुझे उठाया।

स्टीरियो पर कोई सैक्सी गाना लगाओ, उन्होंने कहा तो मैंने स्टीरियो ऑन कर दिया। वोल्युम को तेज़ रखने के लिये कहने पर मैंने वोल्युम को काफी तेज़ कर दिया।

अब तुम नाचो! उन्होंने कहा। मैं चुपचाप खड़ी रही। मैं असमंजस में थी। समझ में नहीं आ रहा था कि मुझे क्या करना चाहिये।

तुम बहुत अच्छा नाचती हो! मैंने कईं बार देखा है तुम्हें नाचते हुए।

लेकिन यहाँ?

क्यों यहाँ क्या प्रॉब्लम है? मैं देखना चाहता हूँ तुम्हारे जिस्म की थिरकन।

मैं धीरे-धीरे वेस्टर्न म्युज़िक पर थिरकने लगी। अंदरूनी कपड़े नहीं होने के कारण मेरे मम्मे उछल रहे थे और मेरा ध्यान डाँस पर कम और अपनी उस मिनी स्कर्ट पर था कि नाचते हुए मेरी चूत उनकी नजरों के सामने ना जाये।

अपने उन दोनों मम्मों को जोर से हिलाओ। खूब शानदार हैं ये दोनों बूब्स तुम्हारे! मैं उनकी पसंद का खयाल रखते हुए अपने मम्मों को हिलाने लगी।

अब नाचते-नाचते अपने कपड़े उतार दो! अपने सैक्सी सैंडल छोड़कर बाकी सारे कपड़े उतार देना। स्ट्रिपटीज़ जानती हो? उन्होंने मुझसे पूछा।

हाँ! मैं उनकी बातों से हैरान हो रही थी। उन पर कुछ तो शराब का और कुछ खुले आज़ाद माहौल का नशा चढ़ा हुआ था।

चलो मेरे सामने स्ट्रिपटीज़ करो, कहते हुए उन्होंने अपने गाऊन को खोल कर अलग कर दिया। गाऊन के नीचे वो बिल्कुल नंगे थे। मैं नाचना छोड़ कर मुँह फ़ाड़े उनके लंड को देख रही थी।

अब्बू जान.. ये सब ठीक नहीं है! मैंने उनसे कहा।

क्या ठीक नहीं है?

यही जो आप कर रहे हैं या करना चाहते हैं।

क्यों.. इसमें क्या बुराई है। तुम ही तो निकाह के पहले से ही मुझ से चुदवाना चाहती थी! उनके मुँह से इस तरह की गंदी बातें सुन कर मैं शरम से गड़ गयी।

जीजी वो.. उस समय की बात और थी! तब मैं आपकी सेक्रेटरी थी।

तो?

आज मैं आपके बेटे की बीवी हूँ।

लेकिन पहले तू मेरी सेक्रेटरी है। यहाँ पर तू मेरी सेक्रेटरी बन कर आयी है मेरे बेटे की बहू नहीं! और सेक्रेटरी का काम होता है अपने एंपलायर को खुश रखना। देखा नहीं यहाँ मौजूद दूसरी सेक्रेटरियों को!

क्या हो गया है आज आपको? मैंने थूक निगलते हुए कहा।

मोहब्बत! तुझे आज जी भर कर मोहब्बत करना चाहता हूँ। आज ससुर जी के मुँह से इस तरह की बातें सुनकर अजीब सा लग रहा था। ताहिर अज़ीज़ खान जी हमेशा से ही एक सोबर और मर्यादित आदमी रहे हैं। मैंने जब निकाह से पहले इतनी कोशिश की थी उन्हें सिड्यूस करने की, तब भी नहीं हिले थे अपने असूलों से। अगर वो चाहते तो मेरी सील तोड़ने का क्रेडिट मैं उन्हीं को देती। मैं तो चाहती ही थी उनकी मिस्ट्रेस बनना। मगर उनके ऊँचे ख्यालातों ने मेरी एक नहीं चलने दी थी। लेकिन वो ऊँचे असूलों का पुतला आज कैसे सैक्स के दलदल में गोते खा रहा है। थोड़ी बहुत चुहल बाजी, थोड़ा लिपटना, थोड़ा मसलना ये सब तो मैं भी पसंद करती थी क्योंकि उन्हें मैं हमेशा ही मन से चाहती थी। मगर उनके साथ सैक्स? मैं असमंजस में फ़ँस गयी थी। शराब का नशा तो मुझे भी था पर इतना भी नहीं था। समझ में नहीं आ रहा था कि आज वो कैसे अपना अहौदा, अपनी मर्यादा, हम दोनों के बीच का रिश्ता, सब भूल कर इस तरह की बातें कर रहे हैं।

अब्बू आपने आज बहुत पी रखी है! आप आज अपने कंट्रोल में नहीं हो! आप यहीं रेस्ट करो.... मैं दूसरे कमरे में जाती हूँ। मैंने दरवाजे की तरफ़ अपने कदम बढ़ाये ही थे कि उनकी कड़कती आवाज से मेरे कदम वहीं रुक गये। खबरदार अगर एक भी कदम आगे बढ़ाया तो! जैसा कहता हूँ वैसा कर.... नहीं तो आज मैं तेरा रेप करने से भी नहीं चूकुँगा।

अब्बू क्या हो गया आज आपको! हम दोनों का रिश्ता बदनाम हो जायेगा। अगर किसी को पता चल गया तो लोग क्या कहेंगे।

तू उसकी चिंता मत कर! किसी को पता ही नहीं चलेगा। यहाँ अपने वतन से दूर हमें जानने वाला है ही कौन। और तू रिश्तों की दुहाई मत दे। एक आदमी और एक औरत में बस एक ही रिश्ता हो सकता है और वो है हवस का रिश्ता। जब तक यहाँ रहेंगे..... हम दोनों साथ रहेंगे। अपने घर जा कर तू भले ही वापस मुझसे पर्दा कर लेना।

ऐसा कैसे हो सकता है? हम दोनों के बीच एक बार जिस्म का रिश्ता हो जाने के बाद आप क्या सोचते हैं कि कभी वापस नॉर्मल हो सकेगा?

तू जब तक यहाँ है, भूल जा कि तो मेरे बेटे की बीवी है। भूल जा कि मैं तेरा ससुर हूँ। तू बस मेरी सेक्रेटरी है। अगर तेरा निकाह मेरे बेटे से नहीं हुआ होता तो हम यहाँ क्या करते?

फिर तो बात दूसरी ही होती! मैंने कहा।

तू समझ कि अब भी वही बात है। तू केवल मेरी सेक्रेटरी है। देखा नहीं.... सारी सेक्रेटरिज़ अपने बॉस के साथ कैसे खुल्लम खुल्ला सैक्स कर रही थीं।

लेकिन मैं अभी भी झिझक नहीं छोड़ पा रही थी। ताहिर अज़ीज़ खान जी उठे और कमरे में बने मिनी बार से व्हिस्की की एक बोतल लेकर उन्होंने एक ग्लास में डाली और मेरे होंठों से लगा दी। ये ले... तेरी झिझक इससे कम होगी और नशे में तुझे मज़ा भी ज्यादा आयेगा। मेरी धड़कनें तेज़ चल रही थीं और इस हालात में मुझे इसकी सख्त जरूरत थी। मैंने दो घूँट में ही वो तगड़ा पैग खाली कर दिया। वो कमरे में कुर्सी-टेबल खिसका कर जगह बनाने लगे। इतने में मैंने वो बोतल ही उठा ली और दो-तीन घूँट व्हिस्की के सिप किये। मैं चाहती थी कि मुझे इतना नशा हो जाये कि मैं खुलकर बिना किसी झिझक के उनका साथ दे सकूँ। ससुर जी ने फिर मुझे खींच कर बीच में खड़ा कर दिया। अंदर कुछ नहीं पहना होने के कारण मेरे बूब्स बुरी तरह इधर-उधर हिल रहे थे। फिर वो मेरे हाथों को अपने हाथ में थाम कर थिरकने लगे। मैं भी एक हाथ में बोतल पकड़े धीरे-धीरे उनका साथ देती हुई डाँस करने लगी।

कुछ ही देर में मुझ पर नशा हावी होने लगा और मैं मूड में आ गयी और पूरे जोश के साथ मैं म्युज़िक पर थिरकने लगी। ताहिर अज़ीज़ खान जी ने एक झटके में अपने जिस्म पर पहने गाऊन को अलग किया। वो अंदर कुछ भी नहीं पहने हुए थे। वो पूरी तरह नंगे हो गये थे। अपने गाऊन को वहीं छोड़ कर वो वापस जाकर बेड पर बैठ गये। अब मैंने भी झिझक छोड़ कर खुद को समय के हवाले कर दिया और कमरे के बीच में थिरकने लगी।

मेरी ओर झुक कर अपनी छातियों को हिलाओ, ताहिर अज़ीज़ खान जी ने कहा। मैंने वैसा ही किया। उन्होंने अब मुझे टॉप उतारने के लिये इशारा किया। उनके सामने नंगी होने का ये पहला मौका था। मैं झिझकते हुए अपने हाथों से अपनी टॉप को पकड़ कर ऊँचा करने लगी। जैसे-जैसे टॉप ऊँचा होता जा रहा था, मेरे बेशकीमती खजाने के दोनों रत्न बाहर निकलते जा रहे थे। मैंने अपनी टॉप को निकाल कर अपने हाथों से पकड़ कर एक बार सिर के ऊपर हवा में घुमाया और फिर उसे ताहिर अज़ीज़ खान जी की तरफ़ फ़ेंक दिया। टॉप सीधा जा कर उनकी गोद में गिरा। ताहिर अज़ीज़ खान जी उसे उठा कर कुछ देर तक सूँघते और चूमते रहे। मैं टॉपलेस हालत में थिरक रही थी और बीच-बीच में बोतल से व्हिस्की सिप कर रही थी। थोड़ी-थोड़ी देर में अपने बूब्स को एक झटका देती तो दोनों बूब्स उछल उठते। मैं डाँस करते-करते ताहिर अज़ीज़ खान जी के पास पहुँची और उनके होंठों के सामने अपने दोनों बूब्स को थिरकाने लगी। मैंने अपने एक मम्मे को अपने हाथों से थाम कर ऊँचा किया। फिर निप्पल को अपनी अँगुलियों से खींच कर उनके होंठों के पास ले गयी। जैसे ही ताहिर अज़ीज़ खान जी ने अपने होंठ खोल कर मेरे बूब्स पर झपटा मारा तो मैं किसी मछली की तरह उनकी पकड़ से निकल गयी। इतने दिनों की आस आज पूरी हो रही थी। ताहिर अज़ीज़ खान जी को तरसाने में खूब मज़ा आ रहा था।

!!! क्रमशः !!!


भाग-१ भाग-२ भाग-३ भाग-४ भाग-५ भाग-६ भाग-७ भाग-८ भाग-१० भाग-११ भाग-१२ भाग-१३ भाग-१४

मुख्य पृष्ठ (हिंदी की कामुक कहानियों का संग्रह)


Online porn video at mobile phone


cache:rBXXN3esG6AJ:awe-kyle.ru/~puericil/Steam_Train/JD11_Juvenile_Deterrence_Chapter_11.html cache:A9pwpA1e4KAJ:http://awe-kyle.ru/~LS/stories/dale106159.html+dale10 boy broke both legs"display position" "inspect him"cache:xoLIocgd7_IJ:awe-kyle.ru/~Yokohama_Joe/ http://awe-kyle.ru/~sister/PAGES/SAJMS8.htmlalexanderangel sex storieswintermutex stories funeral fuckमुझे और मेरी माँ को मेरा पुरा परिवार चोदता है कहानियाँहलवाई के चुदक्कड़ नौकरतीनों छेदों की एक साथ चुदाईमम्मी कि समुहिक चुगाई अंजान मरद सIch konnte das kleine feuchte fötzchen sehenlund se dhunai kahanisweetmomy fuk school boy sexferkelchen lina und muttersau sex story asstrjeremy by janus fbLittle sister nasty babysitter cumdump storiescache:Fnul4n9keMYJ:awe-kyle.ru/~SirSnuffHorrid/KelliPaine/The%20Men's%20Club.html girlscouts nuckie storiesher son a good long look at her moist, gaping cuntslit.ferkelchen lina und muttersau sex story asstrcunt chewed and sucked at his cock. The dark curls of her pussy parted, revealing her slippery cunt lips and her clit as they scraped along the throbbing hardness of his cock.cache:uH60O9ThDX8J:https://awe-kyle.ru/~caultron/adam-nis-wk2-4fr.html Fötzchen eng jung geschichten streng perversEnge kleine ärschchen geschichten extrem perversdad's midlife site:awe-kyle.ruAsstr pre lasitercache:cfzUfGOMXZgJ:https://awe-kyle.ru/files/Authors/LS/www/stories/menschenkinderfreund2041.html shoes and socks cum nifty storychoti chotu chuto ke chudaistrip search machine searchemforced gender change stories nightmareEnge kleine ärschchen geschichten extrem perversFotze klein schmal geschichten perversdaddy says to teen daughter open your legs wide and let me fuck youferkelchen lina und muttersau sex story asstrSex story lina das kleine schoko ferkelchenEnge kleine ärschchen geschichten extrem perversa girl is sleeping with wearing bra and panties and a boy comes and open her bra and fighting with her chest and pushing her chest and suddenly the girl is wake up and they are do sex show a videoasstrAls der fremde sein Sperma in ihr abspritzte, schrie sie laut aufलंबी रोमांचक चूदाई की कहानीferkelchen lina und muttersau sex story asstrrecits inceste orgie scatUnderoos8 storiesmr gloryholejunkie fictionमम्मी साथ चुदाईnifty farn ladsnifty daddy's dirty little secret"fuck me harder" "breed your" niftyFotze klein schmal geschichten perversरोशनी Puse चुदाईMFg mind control hipnosis spanking incest storiescache:A0Y2x_kDgEQJ:http://awe-kyle.ru/~NyteMyst/++"Reform School Experiments"cache:gppb9k2guZsJ:https://awe-kyle.ru/files/Authors/LS/www/stories/baracuda1778.html working hardnasty checkyo hd xxx voidenifty gay archive sf fantasy princedesperate for cock she spreads her legs in readinessmother gave son her whole cuntmadhar chod sala net thik se kahe nahi chala raha hain salamy dauther pireyad mc & chanj ped porni cummed in pastors wife storyboys nudity storiesKleine Sau fötzchen strenge perverse geschichtenrolled back the hood of her huge shiney black clitferkelchen lina und muttersau sex story asstrkysa braswell daddy needs to rapecache:NRAIEzDAXvgJ:awe-kyle.ru/~SirSnuffHorrid/SirSnuff/OneShots/PersonalSlaveSister.html ferkelchen lina und muttersau sex story asstrगाँड का छोटा छेद चुदायी काहानीकामुकता गाँव की देवरानी जेठानीमाँ को चोद जबरनfötzchen eng perverse geschichtenASSTR.ORG/FILES/AUTHORS/DAVE SEXMAD"Donnie Does The Trailer Park"erotic fiction stories by dale 10.porn.comsteifes pimmelchen muttichaudai kahani sperm pinenkikiran ki kahani by sinsexzoo eel snake frog worm in pussygrandpa put his tongue in my cunnycache:6F60ZpCWwPIJ:awe-kyle.ru/~distressica/refs.html cuando sus bolas chocaron con mis nalgas supe que me la habia metido toda por el culoi couldhear her slurping on his cock, i knew she wanted me to hear itwww.asstr.org/files/authors/art_Martincache:Nkn_rxb2OMgJ:awe-kyle.ru/~Janus/jeremy15-1.html mr black and jeff by dale10 ferkelchen lina und muttersau sex story asstr